ब्रेकिंग न्यूज़ ------>

असोहा कांड में एडीजी, आईजी ने घटना स्थल का किया निरीक्षण, सीएम ने लिया संज्ञान

राजनीतिक दलों के नेताओं ने सरकार पर किए हमले–

उन्नाव। जनपद के असोहा थाना क्षेत्र में हुई घटना के बाद विपक्ष से लेकर समाजिक संगठन घटना की जांच कराने की मांग कर रहे है। वहीं पर ट्वीट पर पीड़िता को इंसाफ दिलाने के लिये मांग कर रहे है। सीएम ने घटना पर गंभीर रुख अपनाया है। कांग्रेस पार्टी से प्रियंका गांधी, सुभाषिनी अली, समाजवाटी पार्टी अखिलेश यादव, पूर्व मुख्यमंत्री मायवती, सहित विभिन्घ्न राजनीतिक दलों के नेताओं ने सरकार पर हमले तेज कर दिए। एसपी आनंद कुलकर्णी ने बताया कि यह भी पता लगाया जा रहा है कि लड़कियों की किसी से दोस्ती तो नहीं थी। मामले का खुलासा करने के लिए पुलिस की कई टीमें छापेमारी कर रही हैं। मौके पर और पीड़िता के घर अभी भी पुलिस फोर्स तैनात है।

उधर, परिवार ने पूरे मामले की जांच सीबीआई से कराने की मांग की है। गुरुवार को प्रशासन की ओर से कब्र खोदने के लिए जेसीबी मशीन मंगाई गई तो ग्रामीणों और सपा के लोगों ने पुरजोर विरोध किया। उन्होंने कहा कि जब तक उनकी मांगे पूरी नहीं हो जाएंगी। ग्रामीणों ने कहा कि पीड़ित परिवार को नौकरी, मुआवजा और हत्यारों की तलाश जब तक नहीं होगी वह किशोरियों का शव दफनाने नहीं देंगे। ग्रामीणों ने विरोध जताया कि जेसीबी से कब्र नहीं खुदने दिया। विरोध के बाद प्रशासन ने जेसीबी गांव से बाहर खड़ी करा दी।इसी कड़ी में असोहा थाना क्षेत्र हुई घटना के बाद गांव को छावनी में तब्दील कर दिया गया है। गांव में आने-जाने के रास्तों पर पुलिस ने बैरियर लगाए। इसके साथ ही 19 दरोगाओं, 70 मुख्य आरक्षी, 30 सिपाहियों की अतिरिक्त तैनाती की गई। गांव में सपा के कार्यकर्ता समेत सौकड़ों लोग धरने पर बैठे हुए हैं।जनपद के असोहा थाना क्षेत्र बबुरहा गांव में दोपहर से लापता तीन बच्चियों में दो का शव मिला। जिसमें एक बच्ची तड़पते मिली। जिसके बाद परिजनों प्राथमिक स्वास्थ्य सेवा के लिये अस्पताल ले गये। जहां पर डाक्टरों ने जिला अस्पताल रेफर कर दिया। बाद यहां पर दो बच्चियों का मौत हो चुकी, जबकि एक बच्ची को कानपुर रेफर कर दिया गया।
घटना की जानकारी होने पर जिलाधिकारी रवींद्र कुमार, पुलिस अधीक्षक आनन्द कुलकर्णी, अपर पुलिस अधीक्षक विनोद कुमार, ने घटना स्थल का निरीक्षण करते हुये जिला अस्पताल पहुंचे। जहां पर परिजनों से जानकारी ली। जानकारी में पता चला बच्चियों को दुपट्टे से गला कसा होने और मुंह से झाग निकल रहा था।
सूरजपाल की बेटी काजल 16, बीते बुधवार को दोपहर 3 बजे चचेरे भाई संतोष रावत की बेटी कोमल 12, चचेरी बहन रोशनी के साथ घास लेने खेत के लिये गई थी। शाम 6 बजे तक तीनों के घर न लौटने पर परिजनों ने खोजबीन की। जिसके बाद 7.30 बजे सूरजपाल खोजबीन करते हुये बबुरहा-जगदीशपुर मार्ग से 100 मी0 अंदर सरसों के खेत में मिली। वहीं पर जिलाधिकारी के द्वारा घटना की जांच के लिये स्वाॅट टीम लगा दी। देर रात एडीजी एसएन साबत, आईजी लक्ष्मी सिंह, सहित अन्य अधिकारीगण घटना स्थल पर निरीक्षण किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *