ब्रेकिंग न्यूज़ ------>

गंगा तट से आजादी के अमृत महोत्सव से जुड़ने का आह्वान

वाराणसी। सावन के दूसरे सोमवार को नमामि गंगे की ओर से श्रद्धालुओं को गंगा सफाई के प्रति जागरूक किया गया । हाथों में राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा लेकर भारत सरकार द्वारा आयोजित स्वतंत्रता सेनानियों के स्मरण में मनाए जा रहे आजादी के अमृत महोत्सव से जुड़ने का आवाह्न भी किया गया। भारत की स्वाधीनता के 75 वर्ष पूर्ण होने के पूर्व आगामी 75 सप्ताह तक स्वतंत्रता सेनानियों के प्रति कृतज्ञता व्यक्त करते हुए मनाए जाने वाले आजादी के अमृत महोत्सव में पूरे मनोयोग से शामिल होने के लिए काशी वासियों से अपील की गई ।


नमामि गंगे टीम ने दशाश्वमेध घाट, शीतला घाट, प्रयाग घाट और राजेंद्र प्रसाद घाट पर सफाई के प्रति जागरूकता अभियान चलाया । इसके साथ ही सदस्यों ने घाट पर पड़े हुए माला- फूल और पॉलिथिन को कूड़ेदान तक पहुंचाया । सोमवार को एक तरफ गंगा स्नान हो रहा था तो वहीं दूसरी तरफ श्रद्धालुओं को गंगा सफाई के प्रति जागरूक किया जा रहा था । नमामि गंगे के सदस्य लाउडस्पीकर द्वारा बढ़ी हुई गंगा में गहरे पानी में स्नान न करने की अपील भी कर रहे थे । संयोजक राजेश शुक्ला ने कहा कि स्वच्छ गंगा के लिए सबको संवेदनशील होना होगा । आजादी के अमृत महोत्सव का अर्थ स्वतंत्रता की ऊर्जा का अमृत है । भारत कभी अपने स्वतंत्रता सेनानियों को नहीं भूलेगा। अमृत महोत्सव स्वतंत्रता संग्राम के योद्धाओं की प्रेरणाओं का अमृत, नए विचारों और संकल्पों का अमृत, आत्मनिर्भरता का अमृत और गंगा की निर्मलता – अविरलता का अमृत है । जो स्वतंत्र भारत के सपनों को साकार करने के लिए आगे बढ़ने की प्रेरणा देंगे । आजादी का अमृत महोत्सव भारत की स्वाधीनता की वर्षगांठ मनाने के लिए भारत सरकार द्वारा आयोजित किए जाने वाले कार्यक्रमों की एक श्रृंखला है । यह महोत्सव जनभागीदारी की भावना में एक जन उत्सव के रूप में मनाया जाएगा । 75 सप्ताह स्वतंत्रता संग्राम से जुड़े विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा । जिसके जरिए देशभक्ति का संदेश देने और भारतीय संस्कृति की झलक दिखाने की कोशिश की जाएगी ।
आयोजन में प्रमुख रूप से काशी प्रांत के संयोजक राजेश शुक्ला, महानगर सहसंयोजक रामप्रकाश जायसवाल, वीरेंद्र सिंह, आशीष मांझी आदि शामिल रहे ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *