ब्रेकिंग न्यूज़ ------>

मुख्य विकास अधिकारी क्वारंटाइन में रह रहे लोगों की शिकायतों को सुना

उन्नाव। मुख्य विकास अधिकारी डॉ राजेश कुमार प्रजापति ने आज विकास खंड सिकंदरपुर करन की ग्राम पंचायत शेखपुर नरी की नट जाति की बस्ती में अनाज न होने के कारण लोग भूखे हैं, आज उनको तत्काल ग्राम पंचायत शेखपुर नरी में पहुंचकर नट बस्ती का निरीक्षण किया। निरीक्षण के समय खंड विकास अधिकारी सिकंदरपुर कर्ण राजेश कुमार झा, ग्राम पंचायत अधिकारी, ग्राम प्रधान एवं ग्रामवासी तथा नट बस्ती के लगभग सभी लोग मौजूद थे।जानकारी करने पर ज्ञात हुआ कि इस ग्राम में नट के 10 परिवार हैं और यह लोग वर्ष में कुछ समय यहां पर एवं कुछ समय विकास खंड सिकंदरपुर करन के ग्राम पंचायत सुपासी में निवास करते हैं। जिस कारण इस ग्राम में मात्र 2 परिवार का ही डॉक्यूमेंट एवं नाम और यही लोग मात्र वोटर हैं। जानकारी करने पर यह तथ्य सामने आया कि यहां पर लोग निवास करते हैं वह भूमि कुछ ग्राम पंचायत की है और कुछ अन्य लोगों की भूमिधरी की जमीन है।जानकारी में बताया गया कि ग्राम प्रधान द्वारा समस्त परिवारों को खाद्यान्न उपलब्ध कराया गया था। मौके पर आकस्मिक निरीक्षण के आधार पर तीन परिवारों को ग्राम प्रधान द्वारा उपलब्ध कराई गई सामग्री का निरीक्षण करने पाया गया कि एक एक परिवार को पांच पांच किलोग्राम आटा एवं चावल, 1 लीटर सरसों का तेल, 1.5 किलो अरहर की दाल एक-एक किलोग्राम नमक उपलब्ध कराया गया। किसी को किसी प्रकार की कोई समस्या में खाद्यान्न के समस्या में नहीं है।मौके पर उपस्थित ग्राम प्रधान एवं ग्राम पंचायत अधिकारी को निर्देशित किया गया कि पुनः तीन दिन बाद समस्त लोगों को आवश्यकतानुसार अनाज की उपलब्धता सुनिश्चित कराएंगे एवं सब्जी के तौर पर सभी परिवारों को पांच-पांच किलो आलू भी उपलब्ध कराने के निर्देश दिए गए हैं।
इसी प्रकार ग्राम पंचायत जगजीवनपुर में प्राथमिक पाठशाला में बाहर से आए हुए लोगों को क्वारंटाइन करने हेतु बनाए गए शेल्टर होम के निरीक्षण में यह तथ्य प्रकाश में आया कि ग्राम में 9 लोग दिल्ली से आए है और दिनांक 30 से 21 मार्च से क्वारंटाइन हेतु रखे गए हैं। सौरभ मिश्रा की अगुवाई में इनके द्वारा शिकायत की गई कि उन्हें समय से भोजन नहीं मिलता और पंखा आज नहीं लगा है। परंतु वहां मौके पर समझता ठीक पाई गई। ग्राम प्रधान एवं ग्राम पंचायत अधिकारी द्वारा व्यवस्था सुचारू से करा दी गई थी, परंतु क्वारंटाइन पर रखे गए समस्त लोग अपने-अपने घर जाने का प्रयास करते दिखे। निर्देशित किया गया कि समस्त लोगों को निर्धारित समय तक क्वारंटाइन कराया जाए और यदि अनाधिकृत रुप से सेल्टर होम से जाने का प्रयास करें तो विधिक कार्रवाई कराई जाएगी। इसके बाद लोग समझाने पर मान गए और सेंटरों में रहने का सहमत हुए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *