ब्रेकिंग न्यूज़ ------>

पोषण माह व आजादी के अमृत महोत्सव पर आधारित प्रश्नोत्तरी में पुरस्कृत हुए 15 लोग

हमीरपुर। कुपोषण उन्मूलन एक जन-आंदोलन के रूप में शुरू हुआ है इस वर्ष आजादी के अमृत महोत्सव में। इस आंदोलन को जन-जन तक पहुंचाने के उद्देश्य से सूचना और प्रसारण मंत्रालय, भारत सरकार के क्षेत्रीय लोकसंपर्क ब्यूरो, बांदा द्वारा आज शहर के जीजीआईसी में एक विशेष जन-जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया। लोगों विशेषकर स्कूली बच्चों को सही पोषण व आहार की जानकारी देने के साथ-साथ उन्हें आजादी के अमृत महोत्सव व इसके ऐतिहासिक महत्व के बारे में कार्यक्रम में प्रमुखता से बताया गया। इस अवसर पर एक प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता का आयोजन कर सही जवाब देने वाले 15 बच्चों को पुरस्कृत किया गया। बच्चों को स्वतंत्रता संग्राम व आजाद भारत के महत्व के बारे में भी रुचिकर तरीके से बताया गया।
कार्यक्रम में अपने संबोधन में क्षेत्रीय प्रचार अधिकारी गौरव त्रिपाठी ने कहा कि इस वर्ष आजादी के अमृत महोत्सव में सितंबर महीने में देश भर में पोषण माह को एक जन-आंदोलन के रूप में मनाया जा रहा है। कुपोषण उन्मूलन समाज के प्रत्येक व्यक्ति का कर्तव्य होना चाहिए। एक सुपोषित समाज से ही संभव होता है एक सशक्त देश का निर्माण। क्षेत्रीय प्रचार अधिकारी ने कहा कि प्रधानमंत्री का ध्येय है कि देश को हर हाल में कुपोषण से मुक्ति किया जाए। इसी उद्देश्य से इस वर्ष कुपोषण माह की थीम है ‘सही पोषण-देश रोशन’। ग्राम प्रधान, रघवा, प्रियंका निषाद ने कहा कि पोषण के पांच मुख्य सूत्र हर किसी को जानना चाहिए। यह हैं जीवन के प्रथम 1000 दिवस जिन्हें हम ‘स्वर्णिम दिन’ भी कहते हैं। इसमें पोषण का बहुत ही महत्व है। दूसरा सूत्र है कि हमें समुचित पोषित भोजन के महत्व को हर आयु वर्ग को बताना होगा।
कार्यक्रम में हुई प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता के सपना, पूजा कुमारी, धनंजय, सपना, सूरज, देवेश, सिया दुलारी, तृप्ति, कामिनी, शशि, अंजाना, मिहिर, अनिल पाल, रैना तथा प्रियंका विजेता रहे। कार्यक्रम में मंत्रालय के पंजीकृत नारायण पपेट ग्रुप, लखनऊ, द्वारा विभिन्न कठपुतली के कई लघु नाटक दिखा लोगों का मनोरंजन किया गया व कठपुतलियों व उनके संवादों के माध्यम से आजादी का अमृत महोत्सव और पोषण माह के बारे में लोगों को बताया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *