हमीरपुर

विधिक साक्षरता शिविर में कानूनी पहलुओं पर दिया गया बल

मौदहा हमीरपुर। स्थानीय एक गेस्ट हाउस मे आयोजित विधिक साक्षरता शिविर मे विशेष रूप से लम्बे समय से चल रहे मामलों को आपसी समझौते से निस्तारण करने पर बल देते हुये इसके कानूनी पहलुओं पर जानकारी दी गई। कार्यक्रम की अध्यक्षता शिविर जज जूनियर डिविजन उज्जवल उपाध्याय ने की। कार्यक्रम का सचांलन तहसीलदार रामानुज ने किया। इस अवसर पर वरिष्ठ अधिवक्ता ओम प्रकाश तिवारी ने आज के विधिक शिविर मे दिये गये विषय आपसी समझौते से मामले निस्तारित करने पर प्रकाश डाला। उन्होंने बताया कि यह एक अच्छी प्रक्रिया है जिससे समय और धन दोनों बचते है तथा आसानी से मामलों का निस्तारण हो जाता है। जबकि एपीओ सतेन्द्र व उपनिरीक्षक संगम संग्राम ने भी इस अवसर पर अपने विचार रखे। तहसीलदार रामानुज शुक्ला ने कहा कि सरकार ने न्याय आपके द्वार के तहत कई योजनायें शुरू की जिससे सुलभ न्याय मिल सके। इसी के तहत आपसी मामले निस्तारित किये जा सके। इस अवसर पर सिविल जज जूनियर डिविजन ने कानूनी प्रक्रिया की विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने कहा कि 15 -20 वर्ष चलने वाले मुकदमे खासकर माल, पारिवारिक वाद व अन्य छोटे छोटे मामलों में समय व धन व्यर्थ जाने के बाद भी समय रहते न्याय नहीं मिल पाता इसके लिये सबसे आसान तरीका सुलह समझौते से मामले निस्तारित करने का है। इसके लिये जिला मुख्यालय पर विधिक समझौता केन्द्र स्थापित है। यहां प्रार्थना पत्र देने के बाद समझौते की प्रक्रिया शुरू हो जाती है। आपसी समझौते से समाज मे बढते मनमुटाव दूर होते है। वहीं अनावश्यक खर्च होने वाला धन भी बचता है और शीघ्र समाधान होने से न्याय भी शुलभता से मिलता है। इस अवसर पर सरस्वती महिला महाविद्यालय की छात्रायें व अधिवक्ता तथा सामाजिक कार्यकर्ता मौजूद रहे। प्रमुख रूप से अधिवक्ता हाजी अब्दुल हमीद, मो0 साजिद, धुधाकर, नन्हे यादव आदि मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *