हमीरपुर

अधिकारियों से शिकायत के बाद भी नहीं हुआ परिवर्तन


हमीरपुर। जनपद के सुमेरपुर कस्बे के हालात गांव से ज्यादा बदतर हो गए हैं वहीं आपको बता दें कि कस्बा सुमेरपुर आदर्श नगर बनने को आतुर हैं। यहां के कुछ हालात ऐसे हैं कि देखकर बोलती बंद हो जाती है। आपको बता दें कि अभी तो बरसात शुरु भी नहीं हुई मात्र 1 घंटे की बारिश से कस्बा के यह हालात हो गए हैं यह एक सोंचनीय विषय है। जब तेज और लगातार बारिश होगी तो मोहल्ले वालों का जीना ही दूभर हो जाएगा क्योंकि हल्की बारिश से तलाब जैसे हालात बन गए हैं। देखा जाए तो तालाब का नजारा दिखाई देता है क्योंकि कस्बे के वार्ड नंबर 16 शिवानी पैलेस के पीछे भोला यादव के मकान के पीछे कई सड़कें अच्छी और जमीन लेवल से खाली पड़ी हुई हैं जिसके कारण यहां पर जलभराव हमेशा बना रहता है। यहां स्थानीय लोगों ने बताया कि यहां की सड़कें लगभग 25 वर्षों से ऐसे ही पड़ी हुई हैं और कई बार नगर पंचायत सहित उच्चाधिकारियों को अवगत भी कराया गया है लेकिन अभी तक आश्वासन के अलावा कुछ भी हासिल नहीं हुआ है वही सुमेरपुर नगर पंचायत भी बड़े-बड़े दावे करता है कि नगर में सड़क एवं नालियों का निर्माण तेजी के साथ करवाया गया है। अन्य जगहों से सुमेरपुर आगे है लेकिन कुछ ऐसी तस्वीरें सामने आती हैं और कस्बा निवासियों से बात करने पर ऐसे ऐसे निकल कर सामने आते हैं जो चैंका देने वाले हैं।
आपको बता दें कि 25 वर्षों से अभी तक सुमेरपुर नगर पंचायत मोहल्लेवासियों को सड़के और नालियां तक नहीं उपलब्ध हो सकी हैं। स्थानीय लोगों ने बताया कि 12 महीने घर से निकलने वाला दूषित पानी घर के सामने बने गड्ढे एवं सड़कों पर भरा रहता है जिससे कीट पतंगे गंदे पानी से उत्पन्न होने वाले कीड़े मकोड़े मच्छर जैसे बहुत ज्यादा बीमारियां होती हैं और मोहल्ले वासियों पर अपना आक्रमण करते हैं। गंदे पानी से उत्पन्न हुए मच्छर डेंगू मच्छर से जो लोगों पर हमला कर देते हैं जिससे स्थानीय लोग बीमारी का शिकार हो जाते हैं जिनको अस्पताल में अच्छा खासा पैसा वेस्ट करना पड़ता है। वहीं एक तरफ स्वच्छ भारत अभियान के तहत स्वच्छ भारत स्वस्थ भारत की बात करने वाला नगर पंचायत सुमेरपुर ऐसे दावों में फेल साबित नजर आ रहा है। वहीं नगरवासियों ने बताया कि जब बरसात तेज तेजी के साथ लगातार दो 4 घंटे हो जाती है तो सारी सड़कें पानी से लबालब हो जाती हैं और सभी लोग अपने-अपने घरों में कैद हो जाते हैं किसी की भी हिम्मत नहीं होती कि घर से निकल के बाजार तक कुछ इसी काम के लिए जा सकें घर में पैक होने को मजबूर हो जाते हैं यहां के लोग क्योंकि पानी इतना ज्यादा हो जाता है कि कमर के ऊपर से चलने लगता है इस वजह से सभी लोगों का निकलना दूभर हो जाता है साथ ही बताया कि बरसात में 1 हफ्ते में एक बार खाद्य सामग्री ले आई जाती है जो कई दिनों तक चलती है क्योंकि बार-बार निकलने में बहुत ज्यादा कठिनाइयां होती हैं और पानी का सामना करते हुए ही निकल निकला जा सकता है ऐसे में कई बार ऐसा होता है कि निकलते समय लोगों का पैर फिसल जाता है और गिर जाती है जिससे वह चोटिल भी हो जाते हैं जिससे रुपए की हानि होती है। बताया कि कई बार शिकायत करने के बाद भी आला अधिकारियों के कान में जूं नहीं रेंग रहा है। अभी तक आश्वासन के अलावा कुछ भी हासिल नहीं हुआ है जब हमारी टीम दैनिक दस अंगुलियां समाचार टीम के जिला संवाददाता अजय प्रजापति ने मौके पर जाकर परिस्थितियों से रूबरू हुए साथ ही लोगों से बातचीत कर वहां के हाल जाने नगर के लोगों ने बताया कि नगर पंचायत भले ही आदर्श नगर घोषित होने का दावा करता हो लेकिन मोहल्ले वासियों को अभी तक नाली एवं सड़कें नहीं दे पाया है।वहीं स्थानीय निवासी रामा देवी ने बताया कि 20 वर्षों से लगातार उसी मोहल्ले में निवास कर रही हैं और सभी लोग अपने अपने मकान का टैक्स भी सही समय से भरते हैं और कई बार अधिकारियों को भी अवगत कराया जा चुका है लेकिन आश्वाशन के अलावा कुछ हासिल नहीं हुआ है बताया कि हम लोग छोटे लोग कीड़े मकोड़े की तरह मंडराते रहते हैं और हमारी कोई सुनता ही नही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *