प्रयागराज

29 जुलाई को प्रदेश के वकील रहेंगे हड़ताल पर

प्रयागराज। जनपद में उत्तर प्रदेश बार काउंसिल के अध्यक्ष ने बिगड़ती कानून व्यवस्था को लेकर बहुत बड़ा ऐलान किया है। बार काउंसिल अध्यक्ष हरिशंकर सिंह ने प्रेस वार्ता कर प्रदेश सरकार द्वारा 2 साल से अधिक कल्याण निधि न्यासी समिति का बजट नहीं मिलने पर नाराजगी जाहिर की है। उन्होंने अपनी बात को कहते हुए योगी सरकार पर कई आरोप लगाए हैं। उन्होंने कानून-व्यवस्था की बिगड़ती हालत तथा अधिवक्ताओं की हत्या पर कड़ी प्रतिक्रिया जाहिर करते हुए कहा सरकार अभी तक मृत अधिवक्ताओं के परिजनों के साथ सौतेला व्यवहार कर रही है। साथ ही सरकार द्वारा 2 साल से अधिवक्ता कल्याण निधि न्यासी समिति का बजट भी नहीं दिया है। जबकि इस नीति में हर वर्ष 40 करोड़ के बजट का प्रावधान है। इस संबंध में कई बार मुख्यमंत्री को पत्र के माध्यम से अवगत कराया जा चुका है, और उन्होंने कहा कि अपनी मांगों को लेकर यूपी बार काउंसिल ने आगामी 29 जुलाई को न्यायिक कार्यों का बहिष्कार कर विरोध दिवस मनाने का फैसला किया है।

इस विरोध दिवस में पूरे प्रदेश के साढे तीन लाख अधिवक्ता न्यायिक कार्य का बहिष्कार करेंगे। इस हड़ताल में तहसील से लेकर हाईकोर्ट के अधिवक्ता शामिल रहेंगे। अधिवक्ताओं द्वारा अधिवक्ता सुरक्षा को लेकर मांग की है, अधिवक्ताओं के परिजनों को मुआवजा दिए जाने की मांग की है, तथा 12 जून को यूपी बार काउंसिल अध्यक्ष दरवेश कुमारी की आगरा में हुई हत्या तथा प्रयागराज अधिवक्ता सुशील पटेल एवं प्रतापगढ़ अधिवक्ता ओम मिश्रा की हत्या हुई है। जिसके लिए उत्तर प्रदेश सरकार के मुख्यमंत्री से निरंतर मुलाकात के लिए समय मांगे जाने पर भी मुलाकात नहीं होने के संबंध में नाराज अधिवक्ताओं ने यह फैसला लिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *