प्रयागराज

राष्ट्रीय तम्बाकू नियंत्रण कार्यक्रम में सहयोगी बने संगठन

प्रयागराज। तम्बाकू नियंत्रण उन्मूलन कार्यक्रम के अंतर्गत जिले में सभी एक साथ आ रहे हैं फिर वो चाहे सरकारी विभाग हो या फिर गैर सरकारी संगठन। भारत सरकार एवं डब्लू.एच.ओ द्वारा कराएँ गए गेट्स-2 सर्वे (ग्लोबल अडल्ट टेब्को सर्वे) के मुताबिक 5500 प्रतिदिन बच्चे, युवा प्रतिदिन तम्बाकू की शुरुवात करते हैं जो काफी चिंताजनक हैं।
प्रशिक्षण का आरम्भ करते हुए मुख्य चिकित्साधिकारी मेजर डॉ जीएस बाजपेई ने कहा की नशा एक ऐसी बीमारी हैं जो धीरे धीरे इन्सान को खत्म करती हैं। वह धनहानि के के साथ स्वास्थ्य पर बुरा असर करता हैं जो धीरे धीरे गंभीर रोग जैसे कैंसर में परिवर्तित हो जीवन को खतम करता हैं। उन्होंने बताया की गैर संचारी रोगों की जाँच के लिए अभियान शुरू किया गया हैं जिसमे सभी अपना सहयोग करे और 30 वर्ष से ऊपर के लोगों की शुगर बी.पी की जाँच अवश्य कराएँ।
डॉ. वी के मिश्रा अपर मुख्य चिकित्साधिकारी नोडल एन.सी.डी सेल एवं सादिक अली ने एन.सी.डी सेल के कार्यक्रमों की विस्तृत जानकारी प्रदान की। डॉ. मिश्रा ने कहा कि विभाग द्वारा कई कार्यक्रम को चलाकर तम्बाकू कार्यक्रम के प्रति सभी को सचेत कर रहे हैं ऐसे में जो गैर सरकारी संगठन और सरकारी विभाग भी सहयोग करते हैं तो हम समाज से तंबाकू का उन्मूलन करने में सफल हो सकते हैं।
जिला सलाहकार डॉ. शैलेश कुमार मौर्या ने सिगरेट पीना गुटखा, तम्बाकू के दुष्प्रभावों की जानकारी दी उन्होंने ने बताया कि तम्बाकू उन्मूलन हेतु जिले में कई रणनीतियों का संचालन मुख्य चिकित्साधिकारी के निर्देशन में किया जा रहा हैं जिसके तहत विभिन्न कार्यक्रमों, प्रशिक्षण, गोष्ठी, विद्यालयों में तम्बाकू नियंत्रण कार्यक्रम के माध्यम से तम्बाकू उन्मूलन को जन जन तक पहुँचाया जा रहा हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *