प्रयागराज

ज्ञान से हमें आगे बढ़ने की प्रेरणा मिलती है-सिद्धार्थ नाथ सिंह

प्रयागराज । ज्ञान ईमानदारी से लेना चाहिए, जो ज्ञान हमेशा आप के पास रहती है। ज्ञान बांटने में खर्च कम होता है ज्ञान लेने से भंडार कम नहीं बढ़ता है। ज्ञान से ही संस्कार और विकास की ओर बढ़ता है। यह उद्गार कालिंदीपुरम में स्थित महर्षि विद्या मंदिर इंटर कालेज के वार्षिकोत्सव के अवसर पर सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्यम, निवेश व निर्यात, खादी एवं ग्रामोद्योग, रेशम, हथकरघा, वस्त्र उद्योग एवं एनआरआई विभाग कैबिनेट मंत्री श्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने व्यक्त किया।
दीप प्रज्वलन व पूजा अर्चना के उपरांत मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने जनसमूह को संबोधित करते हुए कहा ज्ञान ग्रहण सदैव ईमानदारी से करना चाहिए जो आप जीवन की संस्कृति और संस्कार के साथ विकास की ओर बढ़ाता है।जो महान पुरूष होते है क्या संजोग है या ग्रह,नक्षत्र का योग होता जैसे महात्मा गांधी लाल बहादुर शास्त्री, स्वामी विवेकानंद और महर्षि योगी आदि महान पुरुषों को देख सकते है। एक ही तिथि और तारीख बन जाते है। बड़े संजोग से महान पुरूष पैदा होते है। स्वामी विवेकानंद ने हिन्दू और हिन्दूत्व की व्याख्या पूरे विश्व में किया था। महर्षि योगी ने भारतीय संस्कृति देश मे ही नहीं विश्व भर में प्रचारित किया है।हमें महान पुरुषों से ज्ञान प्राप्त होता है।भारत के महापुरुषों के संदेश पूरे विश्व में शांति,एकता,प्रेम और सौहार्द्र के ज्ञान से आगे बढ़ने की प्रेरणा मिलती है।
श्री सिंह ने कहा कि स्कूल से बच्चे पढ़कर जब बाहर निकलते है तो बच्चों को दी गयी ज्ञान व संस्कारित शिक्षा ही उनके जीवन मे काम आता है।जिसमें अध्यापक का बड़ा रोल रहता है।बच्चों को अध्यापक ही उनके अनुरूप क्षेत्र के अनुसार विशेष ध्यान व ज्ञान देता है।अभिभावक और अध्यापक मीटिंग के जरिए ही बच्चों को आगे बढ़ाने में सहायक होता है।
कार्यकर्ताओं को स्वच्छता अभियान को निरन्तर आगे बढ़ाने पर चर्चा हुई।स्वच्छता ही ऐसा मंत्र है जो जीवन स्वच्छ स्वस्थ रहने में खुशहाली लाती है।
इस मौके पर क्षेत्रीय मंत्री काशी प्रान्त कमलेश कुमार,पवन श्रीवास्तव, चंद्रभूषण सिंह पटेल,जगमोहन आर्या, पवन मिश्र,छत्रपति सिंह पटेल,रामजी शुक्ला, राम लोचन साहू,मिथलेश सिंह,सुनील श्रीवास्तव, बबलू आदि मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *