उन्नाव

युवक की रिपोर्ट पॉजिटिव आने से शहर में हड़कंप मचा

उन्नाव। जब जिले ने जनता कफर््यू के तीन दिन और 21 दिन का लाकडाउन का पालन करतंे हुए जनपदवासियों ने गुजार दिए तब जिले में छिपे एक कोरोना वायरस से प्रभावित व्यक्ति ने जिले को अंतत कोविड-19 से अछूता जनपद पॉजिटिव शहरों की सूची में शामिल हो गया। विगत 14 अप्रैल को भेजी गई नमूने में एक की रिपोर्ट पॉजिटिव आने से शहर में हड़कंप मच गया है। इसके साथ ही चर्चाओं का दौर शुरू हो गया है। गौरतलब है विगत मंगलवार को 32 संदिग्ध के नमूना जांच के लिए लखनऊ भेजा गया था। 24 घंटे काम करने वाला कंट्रोल रूम जांच रिपोर्टों पर निगाह बनाए हैं। कोविड-19 को लेकर के जनपद का स्वास्थ विभाग हाई अलर्ट पर है। संदिग्ध मामले आने पर उन्हें आइसोलेट किया जा रहा है और नमूने लेकर जांच को भेजा जा रहा है। इधर पॉजिटिव केस मिलने के बाद जिला प्रशासन पूरी तरह से अलर्ट मोड में है और पॉजिटिव केस आनेे वाले व्यक्ति के संपर्क और मोबाइल लोकेशन को ट्रेस किया जा रहा है। इस संबंध में बातचीत करने पर कंट्रोल रूम से डॉ रवि मिश्रा ने बताया कि एक पॉजिटिव केस आया है। विस्तृत जानकारी जांच के बाद दी जाएगी।

वहीं जिला मजिस्ट्रेट रवीन्द्र कुमार ने बताया कि भारत सरकार के आपदा प्रबंधन अधिनियम-2005, सहपठित उत्तर प्रदेश आपदा प्रबंधन अधिनियम-2005 की धारा-5 उपधारा(जी) के अंतर्गत कोविड-19 के कारण फैल रही महामारी को ‘‘आपदा‘‘ घोषित किया गया है। उन्होंने बताया कि मुख्य चिकित्सा अधिकारी के द्वारा बताया गया है कि 16 अप्रैल अदनान पुत्र अबरार उम्र 21 वर्ष निवासी किला क्षेत्र उन्नाव को कोविड-19 की जांच में पॉजिटिव पाया गया है तथा यह भी बताया है कि अदनान किला क्षेत्र में कामरान के घर में रहते थे इनके आवास के जिरोइंग करते हुए 1 किलोमीटर की त्रिज्या में पूर्णतः बैरिकेटिंग कराने का अनुरोध किया गया है।जिला मजिस्ट्रेट ने इसी के क्रम में किला क्षेत्र थाना कोतवाली में कामरान के घर को जिरोइंग करते हुए 1 किलोमीटर की त्रिज्या को 16 अप्रैल 2020 को मध्यान्ह 10 बजे से 30 अप्रैल को मध्यान्ह 12 बजे तक अस्थाई रूप से सील किए जाने के सख्त आदेश दिए हैं।
इसी निमित्त उन्होंने आज सदर विधायक पंकज गुप्ता, पुलिस अधीक्षक, सिटी मजिस्ट्रेट व पुलिस बल के साथ स्थानीय निरीक्षण कर सभी ऐसे क्षेत्रों को, जिसमें आना-जाना सम्भव था, उस क्षेत्र को सील कर दिया गया है। उन्होंने बताया कि इस अवधि में इस क्षेत्र में रहने वाले समस्त व्यक्ति अपने-अपने आवास में ही रहेंगे। आदेश का उल्लंघन उपरोक्त अधिसूचना के प्रस्तर-15 (पन्द्रह) में पदत्त व्यवस्था के अनुसार भारतीय दंड संहिता (अधिनियम संख्या-45, सन् 1850) धारा- 188 के अधीन दंडनीय कोई अपराध किया समझा जाएगा। उन्होंने बताया कि किसी अपरिहार्य स्थिति में इस अधिसूचना क्षेत्र का कोई भी व्यक्ति चिकित्सा विभाग के कंट्रोल रूम नंबर 0515-2840512 अथवा इंट्रीग्रेटेड राहत कंट्रोल रूम नंबर 0515-2820707 अथवा डॉ0 आशुतोष कुमार, मुख्य चिकित्सा अधिकारी मोबाइल नंबर 8005192700 से संपर्क कर सकते हैं। जिला मजिस्ट्रेट ने संबंधित को इन निर्देशों का कड़ाई से अनुपालन सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने इस अवधि में क्षेत्र के कानून एवं शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए श्री रवि वर्मा, चकबंदी अधिकारी, सदर उन्नाव को मजिस्ट्रेट के रूप में नामित करते हुए आदेशित किया है कि वह प्रतिबंधात्मक अवधि तक क्षेत्र में रहकर कानून एवं शांति व्यवस्था बनाए रखेंगे तथा आदेशों का उल्लंघन करने वाले व्यक्तियों पर कठोरतम कार्रवाई करना सुनिश्चित करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *