वाराणसी

एबीवीपी छात्रों ने शहीद जवानों को दी श्रद्धांजली

दस अंगुलियां ब्यूरो

यह समय अंतर्कलह के विषयों में उलझने का नहीं बल्कि सामूहिक शक्ति के रूप में खड़े होने का है।

वाराणसी। लद्दाख के गलवान घाटी में भारत चीन सैनिकों के बीच झड़प में एलएएसी पर भारतीय सेना के जवानों के शहीद होने पर देश में रोष का माहौल है। पूरे देश में शहीद जवानों को श्रद्धांजली अर्पीत की जा रही है। इसी क्रम में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद काशी महानगर के कार्यकर्ताओं द्वारा शारीरिक दूरी का पालन करते हुए भारत माता मंदिर पर श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया गया। एबीवीपी महानगर मंत्री समेत प्रमुख कार्यकर्ताओ ने चीन के प्रति अपना रोष प्रकट करते हुए कहा कि आज हम सभी को मिलकर एक आवाज में खड़े होना होगा।
विद्यार्थी परिषद ने इस विषय में राजनीतिक रोटी सेक रहे लोगो एवं दलों को सचेत किया कि यह समय अंतर्कलह के विषयों में उलझने का नहीं बल्कि सामूहिक शक्ति के रूप में खड़े होने का है। महानगर मंत्री कुँवर ज्ञानेंद्र ने कहा कि चीनी सैनिकों से गलवान घाटी में हुई झड़प में शहीद हुए कर्नल सन्तोष बाबू सहित भारत के 19 सभी वीर सपूतों को अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद काशी महानगर के कार्यकर्ताओं द्वारा भारत माता मंदिर पर श्रद्धांजलि दी गयी। हम हमारे जवानों का बलिदान व्यर्थ नहीं जाने देंगे। इसके लिए देश का युवा और पूरी जनता देश के वीर जवानों के साथ खड़ी है।
चीनी सामानों का बहिष्कार करना ही देश के उन वीर शहीदो के लिए सच्ची श्रद्धांजलि होगी। वहीं अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद काशी जिला को ओर से भी महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ गंगापुर इकाई द्वारा शहीद जवानों को श्रद्धांजलि दी गई। एबीवीपी कार्यकर्ताओं ने चीन के राष्ट्रपति का पुतला फूंका और चीनी सामानों के बहिष्कार करने का संकल्प भी लिया।
एबीवीपी प्रमुख विनय पाण्डेय ने कहा कि चीन अपने सामान भारत भर में बेचकर स्वयं मजबूत हो रहा है और भारतीय सैनिकों को ही मार रहा है। हम भारतवासियों को प्रण लेना होगा कि हम चीनी उत्पादों का बहिष्कार कर सिर्फ स्वेदेशी उत्पादों का ही इस्तमाल करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *