प्रयागराज

नोडल अधिकारी ने एसटीपी सहित अन्य स्थलों का किया निरीक्षण

प्रयागराज। निदेशक, मण्डी परिषद एवं नामित नोडल अधिकारी जितेन्द्र प्रताप सिंह सर्किट हाउस में जनप्रतिनिधियों एवं सम्बंधित विभागों के अधिकारियों के साथ बैठक की। बैठक में जनप्रतिनिधियों ने अपने-अपने क्षेत्र की जलभराव एवं बाढ प्रभावित क्षेत्रों की समस्याओं के साथ-साथ अन्य प्रकार की समस्याओं के बारे में अवगत कराया। नोडल अधिकारी ने सभी सम्बंधित विभागों के अधिकारियों को जनप्रतिनिधियों के द्वारा बतायी गयी समस्याओं को प्राथमिकता पर निस्तारित करने का निर्देश दिया। उन्होंने जनपद में चल रही पेयजल योजनाओं विशेषकर नारीबारी कोरांव, फूलपुर, मेजा इत्यादि तहसीलों में पेयजल योजनाओं के संचालन के बारे में सम्बंधित अधिकारियों से विस्तृत जानकारी प्राप्त की।
उन्होंने कहा कि शासन की मंशा है कि सभी तक स्वच्छ पेयजल आसानी से सुुलभ हो। उन्होंने सम्बंधित अधिकारियों को निर्देशित किया कि पेयजल परियोजनाओं के संचालन में यदि कहीं से भी कोई रूकावट हो, तो उसको तत्काल दूर करते हुए पूरी क्षमता के साथ पेयजल योजनाओं को संचालित करते हुए जनता तक स्वच्छ पेयजल अनिवार्य रूप से सुलभ करायें।नोडल अधिकारी ने संचारी रोग नियंत्रण के सम्बंध में चल रहे कार्यक्रमों की समीक्षा करते हुए स्वास्थ्य विभाग, ग्राम विकास विभाग, पंचातीराज विभाग, कृषि विभाग सहित अन्य सम्बंधित विभाग के अधिकारियों को इस सम्बंध में विशेष सतर्कता एवं सावधानी बरतने के निर्देश दिये है। उन्होंने नगरीय क्षेत्रों में अधिशाषी अधिकारी नगर पंचायत को तथा ग्रामीण क्षेत्रों में जिला पंचायत राज अधिकारी एवं स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को इस सम्बंध में विशेष अभियान चलाये जाने के लिए कहा।
बैठक में विधायक नीलम करवरिया, राजमणि कौल, प्रवीण पटेल, मुख्य विकास अधिकारी आशीष कुमार, नगर आयुक्त रवि रंजन, अपर जिलाधिकारी (नगर) अशोक कनौजिया सहित अन्य विभागों के अधिकारीगण उपस्थित रहे। /नोडल अधिकारी सिंह बक्शी बांध पहुंचकर वहां पर उन्होंने एसटीपी के संचालन की स्थित के बारे में जानकारी प्राप्त की। उन्होंने बरसात के समय जलभराव की स्थिति में पानी को निकालने के लिए लगाये गये पम्पों की क्रियाशीलता के बारे में भी जानकारी प्राप्त की तथा कहा कि सभी पम्पों को संचालन की स्थिति में रखा जाये, जिससे कि एकाएक भारी बरसात की स्थिति में जलभराव के दौरान पानी की निकासी तत्काल सुनिश्चित हो सके और क्षेत्र में जलभराव की स्थिति न उत्पन्न हो। उन्होंने छोटा बघाड़ा क्षेत्र में बाढ़ से प्रभावित होने वाले क्षेत्रों के बारे में भी जानकारी प्राप्त की। उन्होंने बांध पर बने बाढ़ कंट्रोल रूम को भी देखा। इसके बाद नोडल अधिकारी ने करैलाबाग पहुंचकर वहां पर उन्होंने पेयजल प्लांट का भी निरीक्षण कर उसके संचालन के बारे में जानकारी प्राप्त की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *