प्रयागराज

मांगों को लेकर एएनएम संविदा संघ का विरोध प्रदर्शन जारी

प्रयागराज। जनपद की एएनएम संविदा संघ प्रयागराज जिला प्रभारी पुष्टम राय के नेतृत्व में सातवें दिन प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र रामनगर पर सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखते हुए अपने कार्यस्थल पर समान कार्य के लिए समान वेतन, समान अधिकार, गृह जनपद स्थानांतरण, पेट परीक्षा कराए बिना स्थाई नियुक्ति सहित कई मांगों को लेकर संविदा एएनएम ने काली पट्टी बांधकर मांगों की तख्तियां व पोस्टर लेकर अपनी आवाज बुलंद की। एएनएम संविदा संघ प्रयागराज की जिला प्रभारी पुष्टम राय ने बताया की प्रदर्शन में उठाई गई मांगों को संविदा ए.एन.एम.काफी पहले से उठाती रही है। संविदा एएनएमने अपने-अपने जिलों में मंत्रियों, सांसदों, विधायकों को इस बारे में ज्ञापन दे चुकी है और मुख्यमंत्री स्वास्थ्य मंत्री को पत्र लिख चुकी है।

संविदा ए.एन.एम.संघ की जिला प्रभारी पुष्टम राय ने बताया हमारी मांग है कि 300 से 800 किलोमीटर दूर दूसरे जिलों में विकट परिस्थितियों में कार्य कर रही सभी संविदा एएनएम को उनके गृह जनपद में तैनात किया जाए, स्थाई नियुक्त होने तक संविदा एएनएम को 25 हजार वेतन दिया जाए। पेट परीक्षा से बाहर रखकर सभी संविदा एएनएम को नियमित पदों पर नियुक्त किया जाए। कोविड-19 संक्रमण से जान गंवाने वाली ए.एन.एम.को घ्5000000 की आर्थिक सहायता तथा आश्रित को नौकरी दी जाए। सरकार द्वारा घोषित वेतन का 25 फीसदी एलाउंस संविदा एएनएम को भी दिया जाए। श्रीमती राय ने कहा कि सरकार महिला सशक्तिकरण की बात करती है लेकिन संविदा ए.एन.एम.को इससे वंचित रखा जा रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी अपने ट्विटर पर भी एएनएम के बारे मे कहा है कि कोविड के खिलाफ गावों में चल रही लड़ाई में एएनएम बहनों की भी भूमिका बहुत ही अहम है। सामान्य दिनों में संविदा एएनएम की बात नहीं सुनी गई और कोरोना काल में भी उनकी समस्या नहीं सुनी जा रही हैं जबकि कोविड-19 के रोकथाम में सबसे संवेदनशील डोर टू डोर सर्वे और टीकाकरण कार्यक्रम को संविदा एएनएम ही अपनी जान को जोखिम में डालकर गति दे रही हैं। इस मांग में शोभा, उर्मिला, केतकी, शक्या, रूपा, सुधा, दीक्षा मुराती आदि एएनएम उपस्थित रही।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *