हमीरपुर

गेहूं खरीद में अनियमितता, केंद्र प्रभारी पर एफआईआर

हमीरपुर। गेहूं खरीद की व्यवस्थाएं चुस्त-दुरुस्त रखने तथा गेहूं खरीद में आ रही कठिनाइयों, शिकायतों के त्वरित निस्तारण के दृष्टिगत एक आवश्यक बैठक जिलाधिकारी डॉ ज्ञानेश्वर त्रिपाठी की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट में संपन्न हुई। क्रय विक्रय केंद्र सुमेरपुर के केंद्र प्रभारी द्वारा गेहूं खरीद में अनियमितता करने तथा मनमाने ढंग से निर्धारित क्षमता से अधिक खरीद करने पर जिलाधिकारी ने केंद्र प्रभारी पर एफ आई आर कराने के निर्देश दिए हैं। जनपद में इस वर्ष 45307  मीट्रिक टन गेहूं खरीद होने के बावजूद जोकि गत वर्ष की तुलना में 12000 मीट्रिक टन से भी अधिक खरीद  होने के बावजूद  गेहूं खरीद में शिकायतें प्राप्त होने पर जिलाधिकारी ने मामले की जांच करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि इतनी अधिक मात्रा में गेहूं खरीद होने के बावजूद भी गेहूं खरीद में शिकायतें क्यों प्राप्त हो रही हैं इसकी जांच की जाए । जिलाधिकारी ने कहा कि सभी एसडीएम , खाद्य विपणन अधिकारी ,सहायक निबंधक सहकारिता तथा क्रय केंद्र में लगे अन्य अधिकारियों द्वारा क्षेत्र में नियमित रूप से निरीक्षण करें तथा गेहूं खरीद की व्यवस्थाओं में  आ रही समस्याओं को सक्रिय होकर निस्तारित करे। उन्होंने कहा कि सभी संबंधित अधिकारियों द्वारा प्रतिदिन क्रय केंद्रों का निरीक्षण कर वहां पाई गई कमियों को दुरुस्त कराई जाए तथा उसकी रिपोर्ट दी जाए। उन्होंने कहा कि बारदाना का मिसयूज ना होने पाए, बारदाने का एक -एक  हिसाब रखा जाए।  उन्होंने कहा कि गेहूं खरीद के बाद समय से डिलीवरी हो तथा वास्तविक किसानों की गेहूं खरीद हो। कहा कि किसी भी बिचैलिए अथवा  व्यापारियों का गेहूं नहीं खरीदा जाना चाहिए अन्यथा कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

उन्होंने कहा कि किसानों का गेहूं खरीद के बाद उसका नियमानुसार समय से भुगतान किया जाए। गेहूं क्रय केंद्र में कृषकों से अच्छा व्यवहार किया जाए। 1 दिन में निर्धारित क्षमता से ज्यादा खरीद न की जाए। उन्होंने कहा कि क्रय केंद्रों पर बिचैलियों ध्व्यापारियों को चिन्हित कर उन पर कार्रवाई की जाए। उन्होंने कहा कि संदिग्ध व्यक्तियों की तत्काल जांच होनी चाहिए। जिलाधिकारी ने कहा कि सहकारी क्रय केंद्रों से अधिक शिकायतें प्राप्त हो रही है अतः सहायक निबंधक सहकारिता द्वारा अपने क्रय केंद्रों का निरीक्षण कर वहां की व्यवस्थाएं दुरुस्त की जाए। उन्होंने कहा कि सरीला ,राठ व मौदहा के क्रय केंद्रों पर विशेष ध्यान दिया जाए। सभी अधिकारियों को प्रतिदिन के निरीक्षण का टारगेट दिया जाए। कहा कि कहीं भी क्रय केंद्रों पर बारदाना की कमी ना होने पाए। गेहूं खरीद नियमानुसार हो इसमें कोई अनियमितता ना होने पाए ।गेहूं खरीद टोकन व्यवस्था के अनुसार क्रमानुसार ही किया जाए  ,इसमें कोई भी भेदभाव की शिकायत नहीं आनी चाहिए। कहा कि अधिक मात्रा में क्रय केंद्रों पर गेहूं ले जाने वाले का मौके पर जाकर सत्यापन अवश्य किया जाए। इस मौके पर अपर जिलाधिकारी नमामि गंगे, जिला गेहूं खरीद अधिकारी राजेश कुमार यादव ,सीएमओ डॉ आर के सचान, जिला खाद्य विपणन अधिकारी बृजेंद्र कुमार यादव ,सहायक निबंधक सहकारिता, एफसीआई के अधिकारी तथा अन्य संबंधित मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *