गोरखपुर

मांगों को लेकर छात्रों ने सिटी मजिस्ट्रेट को सौंपा ज्ञापन

गोरखपुर। दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय के छात्र नेता मनीष ओझा के नेतृत्व मे मण्डलायुक्त कार्यालय पर डेढ़ दर्जन छात्र-छात्राओं द्वारा लगभग 2 घण्टे तक धरना प्रदर्शन किया गया। तदोपरान्त मण्डलायुक्त की अनुपस्थिति राज्यपाल को संबोधित ज्ञापन सिटी मजिस्ट्रेट अभिनव रंजन श्रीवास्तव को सौंपा। श्री ओझा ने कहा कि छात्र विरोधी सरकार के खिलाफ हम सभी को आज मजबूरन सड़कों पर उतरना पड़ा। हमने 3 जून 2021 को 4 सूत्रीय ज्ञापन प्रधानमंत्री, केन्द्रीय मंत्री मानव संसाधन, मुख्यमंत्री  कौ सौंपा था और यह चेतावनी भी दी थी कि यदि रविवार तक कोई भी फैसला हमारे पक्ष में नही आता है तो हम सभी सोमवार को सड़क पर प्रदर्शन करने का बाध्य हांेगे।

हमारी सरकार से माॅग है कि स्नातक प्रथम वर्ष,द्वितीय वर्ष एवं परास्नातक प्रथम वर्ष के छात्रध्छात्राओं को अगली कक्षा में प्रोन्नत करने व अंतिम वर्ष की परीक्षा बहुविकल्पीय प्रश्न पर आधारित न करते हुए पहले की भाॅति कराए जाने, कोरोना महामारी की वजह से परीक्षा के दौरान यदि किसी छात्र-छात्रा की मृत्यु होती है तो उसके परिजन को 10 लाख रूपए मुआवजा दिया जाए, छात्र-छात्राओं को कोरोना टीकाकरण में वरियता दी जाए यदि हमारी मांग पर विचार नही किया गया तो हम सभी छात्रहित मे अनिश्चित कालीन धरना देने को बाध्य होगे। छात्रनेता नारायण दत्त पाठक ने कहा कि हमारी माॅग पर विचार नहीं किया गया तो ये सरकार के ताबुत की अंतिम कील साबित होगी। छात्रनेता प्रतीक त्रिपाठी ने स्नातक, परास्नातक के छात्र-छात्राओं को भी प्रोन्नत करने की मांग की धरना प्रदर्शन में नारायण दत्त पाठक, प्रतीक त्रिपाठी, दीपक वर्मा, अभिनय मिश्रा, सत्यम गोस्वामी, सातविक पति त्रिपाठी, सैफ, जैनब आलम आदि छात्र-छात्राये मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *