August 10, 2022

किन्नर की हत्या में शामिल अभियुक्त गिरफ्तार

उन्नाव। थाना सफीपुर पुलिस एवं स्वाट व सर्विलांस की संयुक्त टीम द्वारा किन्नर की हत्या में शामिल एक अभियुक्त को कीमत करीब 14 लाख रु0 के लूटे गये सोने व चांदी के जेवर व आलाकत्ल एक अदद तमंचा 315 बोर बरामद कर गिरफ्तार किया गया। पुलिस लाइन सभागार में एसपी दिनेश त्रिपाठी, अपर पुलिस अधीक्षक ने प्रेस वार्ता करते हुये बताया कि थाना सफीपुर क्षेत्र में 29 जुलाई की रात्रि किन्नर मुस्कान के घर में घुस कर गोली मारकर हत्या कर लूट की घटना कारित किये जाने की सनसनीखेज घटना घटित हुई थी। जिसके सम्बन्ध वादी सोनू किन्नर पुत्र राजू कश्यप निवासी मथुरा यमुना पल्ली पार लक्ष्मी नगर थाना चन्द्रावली जनपद मथुरा की सूचना पर थाना स्थानीय पर मु0अ0सं0 326/22 धारा 302/394 भादवि बनाम रूबी किन्नर पुत्री अज्ञात, अन्नू किन्नर पुत्र अज्ञात, सलौनी किन्नर पुत्री अज्ञात निवासीगण अज्ञात पंजीकृत किया गया था। पुलिस अधीक्षक द्वारा अपर पुलिस अधीक्षक, क्षेत्राधिकारी सफीपुर के नेतृत्व में घटना के सफल अनावरण व गिरफ्तारी व माल बरामदगी हेतु तीन टीमों का गठन कर कड़े निर्देश दिये गये थे। जिसके क्रम में 3 अगस्त को प्रभारी निरीक्षक अवनीश कुमार सिंह मय हमराह उ0नि0 सुशील कुमार, हे0कां0 सौरभ मिश्रा, का0 ओमनरायन, कां0 राजकुमार भाटी व स्वाट टीम स्वाट प्रभारी प्रदीप कुमार उ0नि0 मय हमराह हे0कां0 राजेश मिश्रा, हे0कां0 खैरुल बशर, कां0 अंकित बैसला, कां0 रवि कुमार व मुकदमा वादी सोनू के साथ रवाना होकर जनपद मथुरा नामित अभियुक्तगण रूबी किन्नर पुत्री अज्ञात, अन्नू किन्नर पुत्र अज्ञात, सलौनी किन्नर पुत्री अज्ञात निवासीगण अज्ञात की तलाश हेतु निकले थे।
पूँछताछ में अभियुक्त सलौनी उर्फ संदीप राजपूत ने बताया कि बताया कि मै मूलतः मथुरा का रहने वाला हूं । मैने करीब 7-8 महीने पहले पिछले साल ठण्ड में अपनी पत्नी से झगड़ा होने के कारण हिजड़ा के रूप में परिवर्तित हो गया था तथा मैंने अपना नाम सलौनी रखा था। मेरी मां का नाम मीना है तथा पत्नी का नाम रिंकी है। मैं सात आठ महीने से ही मुस्कान किन्नर के पास चेले के रूप में रह रहा था तथा मेरे साथ साथ रूबी और अन्नू भी चेले के रूप में रह रही थीं। साहब एक बार अन्नू ने मुस्कान का एटीएम चुराकर कानपुर झकरकट्टी से पैसा निकाल लिया था जिसका पता चलने पर मुस्कान ने अन्नू की पिटाई कर दी थी। जिससे अन्नू अन्दर ही अन्दर मुस्कान से बहुत रंजिश रखने लगी थी और मेरा भी झगड़ा मेरी पत्नी से चल रहा था जिसमें मुझे तारीख पर जाना पड़ता था और सुलह समझौते के लिये पैसे की आवश्यकता पड़ गयी तथा रूबी भी एक बार मुस्कान का सोना चुरा के भाग गयी थी। इस कारण मुस्कान ने उसको भी काफी भला बुरा कहा था तथा काफी मारा पीटा था लेकिन माफी मांगने के बाद फिर से हम लोग साथ में रहने लगे थे।