ब्रेकिंग न्यूज़ ------>

जनपदीय नोडल अधिकारी ने शासन की प्राथमिकता वाले विकास कार्यक्रमों की समीक्षा की

उन्नाव। आज अपर मुख्य सचिव, उद्यान एवं खाद्य प्रसंस्करण विभाग/नोडल अधिकारी जनपद एम0वी0एस0 रामी रेड्डी व जिलाधिकारी रवीन्द्र कुमार ने जनपद के विकास भवन सभागार में उ0प्र0 शासन द्वारा निर्धारित महत्वपूर्ण 37 बिन्दुओं में से विकास कार्यक्रमों से सम्बन्धित प्रगति की समीक्षा बैठक की। बैठक में नोडल अधिकारी ने शासन की प्राथमिकता वाले 37 प्रारूपों व 71 बिंदुओं की विकास कार्यक्रमवार, बिंदुवार, मदवार समीक्षा की एवं संबंधित को आवश्यक दिशा निर्देश दिए। उन्होंने सम्बन्धित अधिकारियों को शासन की प्राथमिकता वाली विकास योजनाओं में तेजी से प्रगति लाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि शासन द्वारा प्रत्येक योजना की ग्रेडिंग की जा रही है अतः सभी अधिकारी तेजी से कार्य कराएं। शासन की मंशानुरूप विकासपरक कार्यक्रमों, जनकल्याणकारी योजनाओं, लाभार्थीपरक कार्यक्रमों को समयबद्ध तरीके से पूरी पारदर्शिता व गुणवत्ता से पूरा किया जाए। कार्यदायी संस्थाओं पर शिथिल नियंत्रण रखने वाले अधिकारियों पर भी कार्यवाही की जाये। सभी कार्यालयाध्यक्ष अपने-अपने विभागों से जुड़े कार्यों का अभिनव प्रयोग करने की कोशिश करें, ताकि शासन की मंशा के अनुरूप बेहतर कार्य जो अभिनव प्रयोग के रूप में मिलें, उन्हें योजनाओं में शामिल किया जाए।
सभी निर्माण कार्यों का दैनिक पर्यवेक्षण किया जाए और यह भी सुनिश्चित किया जाए की प्रत्येक कार्य स्थल पर कितने मजदूरों द्वारा कार्य किया जा रहा। समीक्षा के दौरान नोडल अधिकारी ने अपर जिलाधिकारी राकेश सिंह से बाढ़ सम्बन्धी जानकारी ली, उन्होंने कहा कि बाढ़ पीड़ितों के रहने, खाने आदि की व्यवस्था पूर्व से ही कर ली जाये। नोडल अधिकारी ने पीडब्ल्यूडी के अधिकारियों सड़कों के निर्माण की प्रगति जानते हुये कार्यों में प्रगति लाने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि सड़कों के चैड़ी करण के कार्यों में किसी भी तरह की शिथिलता बर्दाशत नहीं की जायेगी। उन्होंने नहरों में टेल तक पानी पहुंचाने के निर्देश दिये। अधिशाषी अभियन्ता विद्युत से जनपद में उपलब्ध करायी जा रही बिजली के बारे में पूछा तथा आवश्यक दिशा निर्देश दिये, जिला पंचायत राज अधिकारी से सामुदायिक शौचालय, आॅपरेशन कायाकल्प, पंचायत भवनों का निर्माण आदि के बारे में जानकारी ली।
उन्होंने अमृत योजना, स्मार्ट सिटि योजना, प्रधानमंत्री आवास योजना, आजीविका मिशन, मनरेगा, प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना, मुख्यमंत्री आवास योजना, राष्ट्रीय ग्रामीण पेयजल मिशन, मत्स्य पालन हेतु तालाबों का आवंटन, मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना, कन्या सुमंगला योजना, आई सी डी एस (पोषण अभियान), प्रधानमंत्री रोजगार सृजन योजना, मुख्यमंत्री ग्रामोद्योग रोजगार योजना आदि बिन्दुओं की विस्तार से समीक्षा की। नोडल अधिकारी ने निराश्रित गोवंश की समीक्षा करते हुए गो-आश्रय स्थल, संरक्षित गोवंश व सहभागिता योजना से सुपुर्दगी कराए गए गोवंश की संख्या जानी। आश्रय स्थल में संरक्षित गोवंश के स्वास्थ्य का ख्याल रखा जाए। उन्होंने जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी से विद्यालयों में हुये कायाकल्प के कार्यों की स्थिति जानी, उन्होंने कहा प्रत्येक स्कूल में शौचालय अवश्य होना चाहिये, साथ ही पीने के पानी की भी उचित व्यवस्था होनी चाहिये। स्कूलों में मास्क आदि की व्यवस्था अवश्य होनी चाहिये।
बैठक में नोडल अधिकारी ने सीएमओ डॉ. सत्य प्रकाश से चिकित्सकों की उपलब्धता के बारे में जानकारी ली, गोल्डन कार्ड के वितरण व उपचारित मरीजों की संख्या जानी। उन्हें निर्देश दिए कि अवशेष लाभार्थियों को जल्द ही गोल्डन कार्ड वितरित किए जाएं, वहीं उपचारित मरीजों की संख्या भी बढ़ाई जाए। सीएमओ ने बताया कि टीकाकरण अभियान में आवंटित लक्ष्य के सापेक्ष लोगों का टीकाकरण हो रहा है। नोडल अधिकारी ने मनरेगा के तहत जिले में कराए जा रहे कार्यों के बारे में भी जानकारी प्राप्त कर आवश्यक दिशा निर्देश दिये।
जिलाधिकारी ने समस्त जिला स्तरीय अधिकारियों को निर्देशित करते हुये कहा कि ज्यादातर योजनाओं को अक्टूबर तक पूर्ण करने का प्रयास करें किसी तरह की समस्या आती है तो उससे जिला प्रशासन को अवश्य अवगत करायें। जिलाधिकारी ने नोडल अधिकारी को आश्वस्त किया कि आप द्वारा दिये गये निर्देशों का अनुपालन अवश्य सुनिश्चित कराया जायेगा।
बैठक में मुख्य विकास अधिकारी श्री दिव्यांशु पटेल, अपर पुलिस अधीक्षक, जिला वानिकी अधिकारी, परियोजना निदेशक डीआरडीए, जिला विकास अधिकारी, जिला अर्थ एवं संख्या अधिकारी सहित समस्त जिला स्तरीय अधिकारी मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *