ब्रेकिंग न्यूज़ ------>

मार्जिनल बांध व रिंग रोड का निर्माण न होने से आती है बाढ़

उन्नाव। मार्च 2013 से 134 करोड़ से स्वीकघ्त शुक्लागंज से जाजमऊ तक साढ़े चार किलोमीटर लम्बा मार्जिनल बांध तथा रिंग रोड का यदि निर्माण हो गया होता तो आज लोगों को गंगा बाढ़ तथा बन्द पुराने गंगा पुल से उत्पन्न समस्याओं से निजात मिल गयी होती। ज्ञात हो कि गंगा में आयी बाढ़ से आधा कस्बा शुक्लागंज तथा इस पास दो दर्जन गांव गंगा बाढ़ से जलमग्न हो गये हैं। नगर शुक्लागंज में गंगा तटीय मोहल्लों के दर्जनों घर बाढ़ में जमी दोज हो चुके हैं और यह हर वर्ष गंगा बाढ़ के समय होता है। कटरी के लोग आशियाना बनाते हैं, हर बार बाढ़ में जमींदोज होते रहते हैं, जबकि वर्ष 2013 से लगभग 134 करोड़ रुपये से शुक्लागंज से जाजमऊ पुल तक मार्जिनल बांध तथा रिंग रोड सरलीकृत है। साथ ही अधिशाषी अभियन्ता शारदा खण्ड सिंचाई विभाग को कार्य शुरू करने के लिए टोकन मनी भी प्राप्त हो चुकी है। लेकिन बाढ़ एकमुस्त हल मार्जिनल बांध निर्माण कराने की जगह कटान को रोकने में प्रतिवर्ष करोड़ों रुपये बैंड बैग डलवाने के नाम पर लूटे जा रहे हैं। लेकिन मार्जिनल बांध बनाने के लिए जिला प्रशासन द्वारा कोई सार्थक पहल नहीं की जा रही है।
तत्कालीन विधायक दीपक कुमार द्वारा स्वीकृत कराते ग्रे मार्जिनल बांध की पटना से लेकर केन्द्र सरकार के नदी विकास एवं गंगा बाढ़ नियंत्रण विभाग समस्त औपचारिकताएं पूर्व विधायक रामकुमार पूरी करा मार्जिनल बांध तथा रिंग रोड निर्माण स्वीकृत करा टोकन मनी जारी करना दी थी। परन्तु निर्माण न होने से लोग बाढ़ की त्रासदी और जाम की समस्या भोग रहै है। आज बुधवार को सपा सदर विधानसभा प्रभारी डाॅ0 अभिनव कुमार ने उक्त बांध निर्माण कराने की मांग की है तथा कहा कि स्व0 दीपक कुमार द्वारा स्वीकृत बांध और रिंग रोड का निर्माण हो गया होता तो आज लोगों को बाढ़ और कानपुर जाने के लिए जाम की समस्या से निजात मिल गयी होती।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *