ब्रेकिंग न्यूज़ ------>

विश्वकर्मा वंशजों का सर्व समाज के विकास में महत्वपूर्ण योगदान

हरदोई। ऑल इंडिया यूनाइटेड विश्वकर्मा शिल्पकार महासभा के तत्वावधान में मिरगांवा के मंडी समिति परिसर में आज विश्वकर्मा सर्व समावेशी स्वाभिमान व भागीदारी सम्मेलन संपन्न हुआ। सम्मेलन को संबोधित करते हुए राष्ट्रीय अध्यक्ष अशोक कुमार विश्वकर्मा ने कहा कि देश की समग्र सामाजिक व्यवस्था संक्रमण के दौर में है। मौजूदा सामाजिक और राजनीतिक परिवेश में सर्व समावेशी  व्यवस्था समय की मांग है। उन्होंने कहा निजीकरण,उदारीकरण और वैश्वीकरण ने सामाजिक परिवर्तन की प्रक्रिया को कठिन बना दिया है। जिसके चलते सामाजिक और आर्थिक असमानता की खाई बढ़ रही है। धर्म का राजनीतिकरण हो गया है। धर्मनिरपेक्षता और लोकतांत्रिक विचारों पर हमला हो रहा है। समाज के सभी  समूहों के समग्र विकास हेतु बिना किसी भेदभाव के समानता और समृद्धि की दिशा में ठोस सरकारी प्रयास की जरूरत है। उन्होंने कहा मौजूदा सरकार में असंगठित समाज के सामने सबसे ज्यादा  सामाजिक और आर्थिकअस्तित्व का संकट है। इस चुनौती से निपटने के लिए सभी को संगठित होकर सामाजिक और राजनीतिक परिवर्तन की लड़ाई लड़नी होगी। उन्होंने विश्वकर्मा पूजा दिवस 17 सितंबर को सार्वजनिक अवकाश घोषित करने की मांग की है।

इस अवसर पर मुख्य अतिथि कांग्रेस पिछड़ा वर्ग विभाग के प्रदेश अध्यक्ष मनोज यादव ने कहा उत्तर प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने पर सर्व समावेशी सामाजिक सिद्धांत के फार्मूले को लागू किया जाएगा कांग्रेस पार्टी सरकार के अलोकतांत्रिक जन विरोधी नीतियों  तथा महंगाई के खिलाफ जन मुद्दों को लेकर मजबूती के साथ लड़ाई लड़ रही है।  उन्होंने कहा पार्टी सभी वर्ग के लोगों के स्वाभिमान की सुरक्षा और भागीदारी सुनिश्चित करने की दिशा में सबसे ज्यादा काम कर रही है। कार्यक्रम के संयोजक दीपेश शर्मा ने धन्यवाद ज्ञापित किया एवं संचालन श्रीकांत विश्वकर्मा ने किया। विचार व्यक्त करने वाले लोगों में प्रमुख रूप से श्रीकांत विश्वकमार्, डॉ प्रमोद कुमार विश्वकर्मा, नंदलाल विश्वकर्मा, सुरेश कुमार विश्वकर्मा, कांग्रेस के जिलाध्यक्ष आशीष कुमार सिंह सोमवंशी,  प्रभारी जीत लाल सरोज, अनुपम दीक्षित, अजीमुल हक, राजीव सिंह, अरविंद शुक्ला, शिवपाल वर्मा, महेश शर्मा, अशोक मिश्रा, अतुल तिवारी, उमेश द्विवेदी, संतोष शर्मा, हरिवंश शर्मा सहित हजारों की संख्या में लोग उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *