October 8, 2022

केन, यमुना और चंद्रावल नदी की बाढ़ का कहर

बांदा। जिले के चिल्ला, पैलानी और जसपुरा थाना क्षेत्रों के 2 दर्जन से अधिक गांवों में बाढ़ का पानी घुस गया है और इन गांवो का मुख्य मार्गों से संपर्क टूट गया है और प्रभावित क्षेत्रों में किसानों की फसलें भी जलमग्न हो गईं हैं। स्थानीय ग्रामीणों का कहना है कि यह समस्या हर वर्ष की है। सरकार और शासन को इस क्षेत्र की समस्या को ध्यान में रखते हुए यहां नदी पर एक पुल की व्यवस्था करनी चाहिए जिससे बाढ़ के समय आवागमन में समस्या न हो। मध्य प्रदेश की घाटियों में जबरदस्त बारिश के चलते बरियारपुर बांध से छोड़ा गया पानी पैलानी तहसील क्षेत्र में तवाही मचा रहा है। बुंदेलखंड के बांदा में केन, यमुना और चंद्रावल नदियों में जबर्दस्त बाढ़ आ गई है। जिसके चलते जनपद में करीब 2 दर्जन से अधिक गांवों का मुख्य मार्ग से संपर्क टूट गया है। हालांकि अभी जनपद की प्रमुख नदियों केन और यमुना में पानी खतरे के निशान से नीचे है इसलिए हालत ज्यादा खराब नही हैं लेकिन इन नदियों में लगातार बाढ़ का पानी बढ़ रहा है। वहीं इस मामले में जिलाधिकारी अनुराग पटेल का कहना है कि, प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा कर बाढ़ की स्थिति पर पूरी नजर रखी जा रही है। जिन गांवों का संपर्क टूट गया है वहां आवागमन के लिए नाव की व्यवस्था की गई है और प्रभावित क्षेत्रों में बाढ़ चैकियों के माध्यम से स्थिति पर नजर रखी जा रही है। इसके साथ ही बाढ़ की वजह से जिन किसानों की फसलों को नुकसान हुआ है उसका भी मूल्यांकन कराकर उनकी मदद की जाएगी।