ब्रेकिंग न्यूज़ ------>

मूर्तिकार गणेश प्रतिमाओं को अंतिम रूप दें रहे, गणेश चतुर्थी 10 सितंबर को

उन्नाव। देवों में प्रथम पूज्य भगवान गणेश की पूजा यूं तो हर शुभ काम में सबसे पहले की जाती है, लेकिन गणेश चतुर्थी का विशेष महत्व है। महाराष्ट्र में गणेश परंपरा की धूम रहती है तो जिले में भी पीछे नहीं रहती। गणपति उत्सव की तैयारियां शुरू हो गई हैं। इस बार 10 सितंबर को गणेश चतुर्थी है। बाजार में भगवान गणेश की प्रतिमाओं के स्टाल सज गए हैं। 100 रुपये से लेकर आठ हजार रुपये तक की प्रतिमाएं हैं। पिछले वर्ष कोरोना काल में बिक्री को भी तरसे शिल्पियों ने विघ्नहर्ता से विघ्न हरने की आस लगा रखी है। उन्हें उम्मीद है कि इस बार गणपति की प्रतिमाएं अच्छी संख्या में बिकेंगी। जिले में गणेश चतुर्थी की तैयारियां शुरू हो गई हैं। पिछले वर्ष कोरोना वायरस के संक्रमण का असर गणेश चतुर्थी पर देखने को मिला था। उप्र में कोरोना वायरस का संक्रमण थमा हुआ है। सरकार ने भी नाइट कर्फ्यू की अवधि को रात 11 बजे से सुबह छह बजे तक कर दिया है। मंदिर भी खुले हुए हैं। शहर में बड़ा चैराहा कचैड़ी गली, स्टेशन रोड, छोटा चैराहा, गांधी नगर तिराहा पर गणपति की प्रतिमाओं के स्टाल सज गए हैं। शहर में दुकानदारों के पास डेढ़ फुट से लेकर आठ फुट तक की प्रतिमाएं उपलब्ध हैं। इनकी कीमत एक हजार रुपये से आठ हजार रुपये तक है।
शहरवासी यहां प्रतिमाएं पसंद कर बुकिंग को पहुंच रहे हैं। गणेश चतुर्थी में दो दिन होने से शिल्पियों ने बिक्री की उम्मीद संजो रखी है।शहर शाहगंज निवासी प्रसिद्ध मूर्तिकार रामशंकर प्रजापति ने कई वर्षाे से लगातार गणेश चतुर्थी पर छोटी और बड़ी शुद्ध मिट्टी की मूर्तियां बनाते चले आ रहे हैं। इस बार वे दो सैकड़ा से अधिक मूर्तियों को अंतिम रूप दे रहे हैं। मूर्तियों को बनाने के बाद उनकी रंगाई और सजावट की जा रही है। ये है पूजन मुहूर्त – हिंदी पंचांग के अनुसार इस साल गणेश चतुर्थी का पर्व 10 सितंबर, दिन शुक्रवार को पड़ रहा है। चतुर्थी तिथि 10 सितंबर को दिन में 12 बजकर 18 मिनट से प्रारंभ हो कर रात्रि 10 बजकर 58 मिनट तक रहेगी। प्रतिमा स्थापना चतुर्थी तिथि में पूरे दिन की जा सकती है। लेकिन गणेश प्रतिमा खरीदते समय ध्यान रखें की प्रतिमा मिट्टी की बनी हुई बैठे हुए गणेश जी प्रतिमा स्थापित करना शुभ माना जाता है। उनके साथ मूषक की सवारी भी जरूर हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *