ब्रेकिंग न्यूज़ ------>

सपाईयों ने किसान नौजवान पटेल यात्रा का जगह-जगह किया स्वागत

उन्नाव। सपा पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष के नेतृत्व में पूरे प्रदेश में किसान नौजवान पटेल यात्रा निकाली जा रही है। सोमवार को प्रदेश अध्यक्ष के नेतृत्व में यह यात्रा जनपद पहुंची। जहां पर सपा पार्टी के पदाधिकारियों के द्वारा यात्रा का स्वागत किया गया। यह कार्यक्रम शहर के एक गेस्ट हाउस में आयोजित हुआ। जिसमें प्रदेश अध्यक्ष में मौजूद सरकार पर जमकर निशाना साधा। किसान नौजवान पटेल यात्रा करीब नवाबगंज,दही चैकी, अजगैन, भल्लाफार्म, आशाखेड़ा, बनीपुल, गांधी नगर तिराहा सहित एक सैकड़ा से अधिक स्थानों पर फूला-मालाओं के साथ स्वागत किया गया।
शहर के कब्बाखेड़ा में एक गेस्ट हाउस में किसान नौजवान पटेल यात्रा में सपा प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम का स्वागत पूर्व राज्यमंत्री सुधीर रावत, पूर्व विधायक उदय राज यादव, पूर्व विधायक कृपाशंकर, सपा जिलाध्यक्ष धर्मेन्द्र यादव, पूर्व विधायक रामकुमार, सदर विधानसभा प्रभारी डाॅ0 अभिनव कुमार, सपा नेता राजेश यादव, रामबहादुर यादव सहित बड़ी संख्या में सपा कार्यकर्ता मौजूद रहे। उन्होंने बताया कि आगामी विधानसभा चुनाव में सपा, कांग्रेस का समझौता नहीं होगा। पार्टी मजबूती से चुनाव लड़ेगी और जनता का अपार समर्थन मिलेगा। भाजपा ने चुनाव के दौरान जो वादे किए थे, डबल इंजन की सरकार में वे पूरे नहीं हुए। इस कारण किसान और नवजवान निराश हैं। बीजेपी ने जो वादे किए थे, वे पूरे नहीं हुए। इस वादाखिलाफी से किसान आक्रोश में हैं। विधानसभा चुनाव सपा अपने बूते लड़ेगी, कांग्रेस से समझौता नहीं होगा। भाजपा सरकार के खिलाफ जनता में रोष है।
श्री पटेल ने कहा कि यात्रा 29 अगस्त को सीतापुर से शुरू की थी। यहां पहुंचने पर किसानों, नौजवानों ने स्वागत कर मनोबल बढ़ाया। उन्होंने कहा कि नौजवान परेशान हैं, उन्हें रोजगार नहीं मिल रहा। दावा दो करोड़ रोजगार देने का था, इसके सापेक्ष साढ़े चार लाख लोगों को मिला। इसमें भी संविदाकर्मी व मनरेगा मजदूर भी शामिल हैं। उन्होंने कहा कि बीजेपी ने किसानों से जो वादा किया कि फसल का लाभकारी मूल्य देंगे, स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट लागू करेंगे। आय दोगुना करेंगे, लेकिन ऐसा नहीं हो सका। किसानों को लाभकारी मूल्य तो छोड़िए उन्हें लागत मूल्य भी नहीं मिल रहा है। सरकार ने गेहूं, धान का समर्थन मूल्य घोषित किया, लेकिन प्रदेश के क्रय केंद्रों में धान किसानों से न खरीद करके बिचैलियों से खरीदा गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *